Close

न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : एफडब्ल्यूआईसीई ने वर्चुअल मीटिंग में तय की शूटिंग शुरू करने की गाइड लाईन, हर सेट पर डॉक्टर, नर्स और सुपरवाइजर की नियुक्ति अनिवार्य

न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : मुम्बई/ बिहार :

फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लाइज (एफडब्ल्यूआईसीई) ने एक वर्चुअल मीटिंग में फिल्मों की शूटिंग को कुछ सुरक्षा निर्देशों को ध्यान में रखते हुए शुरू करने पर चर्चा किया। हालांकि फ़िल्मों या धारावाहिको की शूटिंग जुलाई से पहले शुरू नहीं हो पायेगी। यह बैठक फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लाइज (एफडब्ल्यूआईसीई) के पदाधिकारियों की सिने एंड टीवी आर्टिस्ट एसोसिएशन- सिनटा (सीआईएनटीएए) के पदाधिकारियों के साथ हुई।

एफडब्ल्यूआईसीई के प्रेसिडेंट बी.एन. तिवारी और जनरल सेक्रेटरी अशोक दुबे तथा ट्रेजरार गंगेश्वरलाल श्रीवास्तव ने कहा कि सिंटा के साथ हमारी बैठक के बाद हमने सभी एसोसिएशंस के साथ मिलकर यह फैसला किया है कि हम फिल्मों की शूटिंग कुछ दिशा निर्देशों को ध्यान में रखते हुए ही शुरू करेंगे। हम इन नियम और कानूनों को सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय और श्रम मंत्रालय तथा राज्य सरकार को भेजेंगे। वही इसपर अंतिम फैसला लेंगे। फिलहाल हमारे वर्कर बिना उचित सुरक्षा के शूटिंग नहीं करेंगे।इसके लिए दो दिन बाद फिर एक बैठक आयोजित की जारही है।

इस गाइडलाइन में सभी निर्माताओं और निर्देशकों को अपने सेट पर कुछ नियमों का पालन करने का आदेश देने पर चर्चा हुई। इन निर्देशों के तहत सेट पर पहुंचने वाले हर कलाकार और क्रू के सदस्य को अपनी सेहत का एक परीक्षण करवाना होगा। इस दौरान उनके शरीर का तापमान भी जांचा जाएगा। यह प्रक्रिया हर रोज दोहराई जाएगी। अगर कोई बात बिगड़ती है तो हर रोज सेट पर डॉक्टर और नर्स को भी रखने के निर्देश हैं। यह नियम शूटिंग शुरू होने के शुरुआती तीन महीने तक लागू रहेंगे।

शूटिंग शुरू होने का मोटा मोटा अंदाजा लगाते हुए एफडब्ल्यूआईसीई के प्रमुख बीएन तिवारी ने बताया की शूटिंग लगभग जुलाई तक शुरू हो सकती हैं। उन्होंने कहा, ‘हम शूटिंग के लिए अपने किसी भी कर्मचारी की सेहत को खतरे में नहीं डाल सकते।’ एफडब्ल्यूआईसीई के सचिव अशोक दुबे ने बताया कि मीटिंग में सेट पर काम करने वाले लोगों का जीवन बीमा करने की भी बात उठाई गई है।

शूटिंग शुरू करने को लेकर जिन गाइडलाइन पर चर्चा हुई वो निम्नलिखित हैं:

◆सभी कलाकार अपने घर से ही मेकअप और स्टाइलिंग का काम करेंगे और सेट पर सिर्फ एक स्टाफ सदस्य के साथ ही आएंगे। ◆सभी फिल्मोंगगव के निर्माता अपनी सेट पर काम करने वाले हर एक सदस्य को 12 घंटे के शूट के दौरान चार मास्क उपलब्ध कराएंगे। ◆शूटिंग शुरू होने के 3 महीने तक सेट पर उन लोगों को काम ना करने दिया जाए जिनकी उम्र 60 साल से ऊपर है। ◆हर सेट पर डॉक्टर नर्स और सुपरवाइजर की नियुक्ति अनिवार्य हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top