Home खास खबरें न्यूज़ टुडे एक्सक्लूसिव : गणतंत्र की धरती बिहार ही स्मार्ट और डिजिटल...

न्यूज़ टुडे एक्सक्लूसिव : गणतंत्र की धरती बिहार ही स्मार्ट और डिजिटल डेमोक्रेसी का बनेगा लांच पैड

न्यूज़ टुडे एक्सक्लूसिव :

डा. राजेश अस्थाना, एडिटर इन चीफ, न्यूज़ टुडे मीडिया समूह :

बिहार का मानस कोरोना संक्रमण के बाद युगानुकूल परिवर्तन के लिए तैयार है।कोरोना संक्रमण के बाद पूरी दुनिया में कामकाज का तरीका इस तरह बदला कि जीवन बचाना पहली प्राथमिकता हो गई। कोरोनाकाल में जिस प्रकार से ई-मीटिंग, फेसबुक लाइव, ऑनलाइन क्लासेस आदि का प्रचलन बढ़ा है उसको देखते हुए यह जाहिर है कि वर्चुअल रैली भारतीय चुनाव व्यवस्था में न्यू नार्मल होगी। सब कुछ ठीक रहा तो गणतंत्र की धरती बिहार ही स्मार्ट और डिजिटल डेमोक्रेसी का लांच पैड बनेगा।

बिहार में इस साल अक्टूबर-नवंबर में संभावित चुनाव भी नई वास्तविकता से अवश्य प्रभावित होंगे। अब जब प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री भी अपने सहयोगियों-अधिकारियों के साथ पहले की तरह बैठकें नहीं कर डिजिटल माध्यम से वर्चुअल संवाद कर रहे हैं, तब भीड़भाड़ वाली चुनाव सभाएं कैसे संभव होंगी?

हालांकि दिल्ली से गृहमंत्री अमित शाह और पटना से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार में अपनी-अपनी पार्टी के पदाधिकारियों से वर्चुअल संवाद कर एक मॉडल प्रस्तुत करने का प्रयास किया कोरोना संकट के बीच इस तरह डिजिटल चुनाव प्रचार को अपनाया जा सकता है। दूसरी तरह बिहार के मुख्य विरोधी दल राजद, उसकी सहयोगी पार्टी कांग्रेस और वामपंथी दलों ने वर्चुअल संवाद का विरोध कर दिया।

विपक्षियों ने विरोध में तर्क यह दिया गया कि वर्चुअल संवाद का तरीका ज्यादा खर्चीला है। यह तर्क गले उतरने लायक नहीं, क्योंकि पारंपरिक चुनाव सभाओं में भीड़ जुटाने से लेकर मंच व्यवस्था करने तक हर सभा पर लाखों रुपये का खर्च आता है। नेताओं की हवाई (हेलीकाप्टर) यात्रा और जमीनी यात्राओं पर भी करोड़ो रुपये बहाये जाते हैं। फिर, सबसे बड़ी चिंता खर्च की नहीं, लोगों को भीड़ से होने वाले संक्रमण से बचाने की है। इस मुद्दे पर भी विपक्ष का रुख नकारात्मकता से भरा लगता है।

इधर चुनाव आयोग शारीरिक दूरी और संक्रमण से बचाव के नियमों का पालन करते हुए चुनाव कराने के प्रशासनिक विकल्पों पर विचार कर रहा है। लेकिन लालू प्रसाद की पार्टी नई वास्तविकता को नकारते हुए वर्चुअल संवाद का विरोध करने पर अड़ी है। उन्हें गरीब मतदाताओं की जान से नहीं, केवल सत्ता हथियाने से मतलब है।

सब जानते हैं कि बिहार सहित पूरे देश में जब कोरोना संक्रमण की चुनौती बनी हुई है, तब कम खर्चीले और ज्यादा सुरक्षित वर्चुअल रैली का विरोध उचित नहीं। लालू प्रसाद ने तो उस ईवीएम का भी विरोध किया, जिससे बूथलूट बंद हुई और गरीबों को वोट डालने के मौके मिले। आज वे उस वर्चुअल रैली का विरोध कर रहे हैं, जिससे बिना पेट्रोल-डीजल पर लाखों रुपये खर्च किये कम समय में लोगों से संवाद किया जा सकता है। सवाल यह है कि जो लोग पेट्रोल-डीजल बचाने के लिए साइकिल चलाते हुए फोटो पोस्ट करते हैं, वे वर्चुअल रैली का विरोध क्यों कर रहे हैं? .

एक बात तो तय है कि कोरोना काल से पहले वाले दिन फिलहाल लौटने वाले नहीं। उन दिनों चुनावी रैलियों में उमड़ने वाली भीड़ मंचासीन लोकप्रिय नेताओं को भाग्य विधाता समझती थी, नारे लगते थे, सभा स्थल को बैनर- पोस्टर- कटआउट से पाटकर प्रभाव दिखाया या जमाया जाता था। अब यह सारे खर्चीले और प्रदूषणकारी विकल्प जानलेवा सिद्ध हो सकते हैं। विपक्ष को लालटेन, बैलगाड़ी, बैलेट पेपर जैसे कालबाह्य साधनों के समर्थन में कुतर्क गढ़ने के बजाय ईवीएम और वर्चुअल रैली की वैज्ञानिक सोच के साथ खड़े होना चाहिए। प्रचार या मतदान के तरीके ज्यादा मायने नहीं रखते। जनता किसी दल या दलों के गठबंधन की रीति-नीति, ईमानदारी, कर्मठता, विश्वसनीयता और जनहित के मुद्दों पर उसके दृष्टिकोण के आधार पर सेवा का अवसर देती है, संवाद का तरीका कोई हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Our Visitor

5998818
Users Today : 5
Users Yesterday : 20
Users Last 7 days : 103
Users Last 30 days : 293
Users This Month : 194
Users This Year : 465
Total Users : 5998818
Views Today : 21
Views Yesterday : 121
Views Last 7 days : 693
Views Last 30 days : 1959
Views This Month : 1394
Views This Year : 3357
Total views : 6634444
Who's Online : 0
Your IP Address : 3.237.34.21
Server Time : 2024-02-21
- Advertisment -

Most Popular

न्यूज़ टुडे ब्रेकिंग अपडेट : सम्पूर्ण विश्व में चम्पारण के अतीत के अनछुए पहलुओं से रूबरू कराती फ़िल्म “चम्पारण सत्याग्रह” युगों युगों तक रामायण...

न्यूज़ टुडे ब्रेकिंग अपडेट : मोतिहारी रिंकू गिरी, स्थानीय संवाददाता  ★आज की युवा पीढ़ी चम्पारण सत्याग्रह को न के बराबर जानती है। उन्हें यह मालूम नही...

न्यूज़ टुडे ब्रेकिंग अपडेट : मुंबई बॉलीवुड के कार्यक्रम में मोतिहारी का जलवा, डा.राजेश अस्थाना व अमित सर्राफ के साथ सम्मानित हुई कई फिल्मी...

न्यूज़ टुडे ब्रेकिंग अपडेट : मोतिहारी/ मुम्बई रिंकू गिरी, स्थानीय संवाददाता मुंबई स्थित सोनकर समाज द्वारा संत तुकाराम लाल मैदान, कोपरी ठाणे मुंबई में गणतंत्र दिवस...

न्यूज़ टुडे एक्सक्लूसिव : केंद्र सरकार ने खेला बड़ा दांव, कर्पूरी ठाकुर की जन्म शताब्दी से पहले भारत रत्न देने की हुई घोषणा

न्यूज़ टुडे एक्सक्लूसिव : डा. राजेश अस्थाना, एडिटर इन चीफ, न्यूज़ टुडे मीडिया समूह : ★बिहार की राजनीति में केंद्र सरकार ने जदयू और राजद को...

न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : वरीय रंगकर्मी प्रसाद रत्नेश्वर के नेतृत्व में बिहार महोत्सव की टीम दिल्ली रवाना

न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : रिंकू गिरी, स्थानीय संवाददाता : •विदा करने बापू धाम मोतिहारी स्टेशन पहुँचे संस्कृति प्रेमी • दिल्ली में नुक्कड़ नाटक करेंगे मोतिहारी के...

Recent Comments