Close

न्यूज़ टुडे एक्सक्लूसिव : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाने का ऐलान किया, कहा – नियम और भी सख़्त होंगे

न्यूज़ टुडे न्यूज़ टुडे एक्सक्लूसिव :

ई. युवराज,                                            मुख्य कार्यकारी अधिकारी, न्यूज़ टुडे मीडिया समूह :

कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए किया गया 21 दिन का देशव्यापी लॉकडाउन आज पूरा हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि 3 मई तक हर देशवासी को लॉकडाउन में ही रहना होगा। इस दौरान हमें अनुशासन का उसी तरह पालन करना है, जैसे हम करते आ रहे हैं।

क्या कहा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने

– लॉकडाउन के नियम अगर टूटते हैं और कोरोना का पैर हमारे इलाके में पड़ता है तो सारी अनुमति वापस ले ली जाएगी। इसलिए न खुद लापरवाही करनी है और न दूसरों को लापरवाही करने देनी है: पीएम मोदी
-जो क्षेत्र इस अग्निपरीक्षा में सफल होंगे, जो हॉटस्पॉट में नहीं होंगे, और जिनके हॉटस्पॉट में बदलने की आशंका भी कम होगी, वहां पर 20 अप्रैल से कुछ जरूरी गतिविधियों की अनुमति दी जा सकती है: पीएम मोदी

– अगले एक सप्ताह में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कठोरता और ज्यादा बढ़ाई जाएगी। 20 अप्रैल तक हर कस्बे, हर थाने, हर जिले, हर राज्य को परखा जाएगा, वहां लॉकडाउन का कितना पालन हो रहा है, उस क्षेत्र ने कोरोना से खुद को कितना बचाया है, ये देखा जाएगा: पीएम मोदी
– मेरी सभी देशवासियों से प्रार्थना है कि अब कोरोना को हमें किसी भी कीमत पर नए क्षेत्रों में फैलने नहीं देना है। स्थानीय स्तर पर अब एक भी मरीज बढ़ता है तो ये हमारे लिए चिंता का विषय होना चाहिए: पीएम मोदी
– यानि 3 मई तक हम सभी को, हर देशवासी को लॉकडाउन में ही रहना होगा। इस दौरान हमें अनुशासन का उसी तरह पालन करना है, जैसे हम करते आ रहे हैं: पीएम मोदी
– सभी का यही सुझाव है कि लॉकडाउन को बढ़ाया जाए। कई राज्य तो पहले से ही लॉकडाउन को बढ़ाने का फैसला कर चुके हैं। सारे सुझावों को ध्यान में रखते हुए ये तय किया गया है कि भारत में लॉकडाउन को अब 3 मई तक और बढ़ाना पड़ेगा: पीएम मोदी
– इन सब प्रयासों के बीच, कोरोना जिस तरह फैल रहा है, उसने विश्वभर के हेल्थ एक्सपर्ट्स और सरकारों को और ज्यादा सतर्क कर दिया है। भारत में भी कोरोना के खिलाफ लड़ाई अब आगे कैसे बढ़े, इसे लेकर मैंने राज्यों के साथ निरंतर बात की है: पीएम मोदी
– अगर सिर्फ आर्थिक दृष्टि से देखें तो अभी ये मंहगा जरूर लगता है लेकिन भारतवासियों की जिंदगी के आगे इसकी कोई तुलना नहीं हो सकती। सीमित संसाधनों के बीच, भारत जिस मार्ग पर चला है, उस मार्ग की चर्चा आज दुनियाभर में हो रही है: पीएम मोदी
– आज विश्व में कोरोना वैश्विक महामारी की जो स्थिति है, आप उसे भली-भांति जानते हैं। अन्य देशों के मुकाबले, भारत ने कैसे अपने यहां संक्रमण को रोकने के प्रयास किए, आप इसके सहभागी भी रहे हैं और साक्षी भी रहे हैं: पीएम मोदी
– आज भारत बहुत संभली हुई स्थिति में है। करीब एक महीने पहले कई देश कोरोना संक्रमण के मामले में तकरीबन भारत के बराबर थे। आज उन देशों में कोरोना के केस भारत के मुकाबले 25-30 प्रतिशत ज्यादा हैं। वहां कई लोगों की मृत्यु हो गई है: पीएम मोदी
– जब हमारे यहां कोरोना वायरस के सिर्फ 550 केस थे, तभी भारत ने 21 दिन के संपूर्ण लॉकडाउन का एक बड़ा कदम उठा लिया था। भारत ने समस्या बढ़ने का इंतजार नहीं किया, बल्कि जैसे ही समस्या दिखी, उसे तेजी से फैसले लेकर उसी समय रोकने का प्रयास किया: पीएम मोदी
– आप लोगों ने कष्ट सहकर भी अपने देश को बचाया है। हमारे भारतवर्ष को बचाया है। मैं जानता हूं, आपको कितनी दिक्कते आई हैं। किसी को खाने की परेशानी, किसी को आने-जाने की परेशानी, कोई घर-परिवार से दूर है: पीएम मोदी
– कोरोना वैश्विक महामारी के खिलाफ भारत की लड़ाई बहुत मजबूती के साथ आगे बढ़ रही है। आप सभी देशवासियों की तपस्या, आपके त्याग की वजह से भारत अब तक, कोरोना से होने वाले नुकसान को काफी हद तक टालने में सफल रहा है: पीएम मोदी

रेड, ऐलो और ग्रीन जोन

सरकार ने लॉकडाउन के दौरान कोरोना की चुनौती से निपटने के लिए देश को तीन क्षेत्रों रेड, ऐलो और ग्रीन जोन में बांटा गया है। रेड जोन में जहां कोरोना महामारी का संकट है वहां लॉकडाउन के साथ हॉट स्पॉट के इलाकों को सील रखा जाएगा। वहीं ऐलो जोन में जहां कोरोना के मामले ज्यादा नहीं हैं वहां लॉकडाउन के साथ आवश्यक और सीमित आर्थिक गतिविधियों की इजाजत दी जा सकती है। जबकि ग्रीन जोन जहां कोरोना का कोई असर नहीं है उसे संक्रमण से बचाए रखने के उपायों के साथ आर्थिक गतिविधियों को स्थानीय स्तर पर जारी रखने की छूट का प्रस्ताव है।

सीएम केजरिवाल ने दिया था संकेत

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री के साथ मुख्यमंत्रियों की बैठक के बाद कहा था कि लॉकडाउन का विस्तार करने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने बैठक के बाद किए अपने ट्वीट में लिखा, ‘प्रधानमंत्री ने लॉकडाउन बढ़ाने का सही फैसला लिया है। आज, भारत की स्थिति कई विकसित देशों से बेहतर है क्योंकि हमने पहले ही लॉकडाउन शुरू करने का फैसला ले लिया था। अगर इसे अभी खत्म कर दिया गया तो सारी कोशिशों पर पानी फिर जाएगा. लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला जरूरी है।’

कई राज्यों ने पहले ही बढ़ाया लॉकडाउन

प्रधानमंत्री मोदी ने लॉकडाउन बढ़ाने के एलान से पहले सोमवार को पीएमओ और तमाम मंत्रालयों के आला अफसरों के साथ अंतिम दौर की मंत्रणा की। वैसे महाराष्ट्र, राजस्थान, ओडिसा, पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु समेत सात राज्यों ने अपने सूबों में 30 अप्रैल तक लॉकडाउन बढ़ाए जाने की घोषणा पहले ही कर दी है। इसीलिए पुख्ता संभावना यही है कि पीएम मोदी भी देशव्यापी लॉकडाउन को दो हफ्ते और बढ़ाने का ऐलान करेंगे।

लॉकडाउन बढ़ाने के संकेत

प्रधानमंत्री ने कोरोना के खतरों के बीच अर्थव्यवस्था और रोजगार के मोर्चे की इन चुनौतियों को देखते हुए मुख्यमंत्रियों के साथ 11 अप्रैल को हुई बैठक में स्पष्ट संकेत दिया था कि लॉकडाउन को दो हफ्तों के लिए बढ़ाया जा सकता है। इस दौरान उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का पहला चरण ‘जान है तो जहान है’ पर फोकस था, लेकिन लॉकडाउन के दूसरे चरण में ‘जान भी जहान भी’ पर फोकस किया जाएगा।

लॉकडाउन का दूसरा चरण ‘जान भी जहान भी’ 

तीन हफ्ते पहले देश के नाम अपने संबोधन में पीएम मोदी ने देश में 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा की थी। प्रधानमंत्री मोदी ने ‘जान है तो जहान है’ की बात की थी। जिसमें जान बचाने की तत्काल जरूरत पर जोर दिया गया था। माना जा रहा है कि लॉकडाउन के दूसरे चरण ‘जान भी जहान भी’ में कुछ प्रतिबंधों में छूट मिल सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top