न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की सीट पर 88 लोगों ने दावा ठोंका तो पांच सालों में मनीष सिसोदिया के खिलाफ 300 प्रतिशत प्रत्याशी बढ़े

न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : पटना/ बिहार : 

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन का दौर खत्म हो चुका है. अब सभी पार्टियों का ध्यान चुनाव प्रचार पर है. लेकिन, इस बार जो सीट सबसे हॉट फेवरेट बनी हुई है, वह है नयी दिल्ली विधानसभा सीट. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की इस सीट पर 88 लोगों ने दावा ठोंका है. 

नोट : कृपया इसे भी पढ़ें :- 

न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : पिछले एक साल में भाजपा के हाथ से पांच राज्य फिसला, भाजपा का शासन 71 फीसद भूभाग से घटकर 35 पर पहुंचा

दिल्ली विधानसभा के चुनावी इतिहास में अभी तक किसी भी चुनाव में इतने नामांकन दाखिल नहीं किये गये और न ही नयी दिल्ली सीट पर कभी 88 लोगों ने एक साथ दावेदारी की. लेकिन, नयी दिल्ली विधानसभा सीट पर 88 नामांकन पत्र दाखिल कर रिकॉर्ड बनाने वाले उम्मीदवारों को बड़ा झटका लगा है. एक ही बार में 54 नामांकन पत्रों को निरस्त कर दिया गया है. 

नामांकन दाखिल करने वालों में आप के पांच बागी विधायक भी है. चर्चा है कि ये केजरीवाल का खेल बिगाड़ सकते हैं. हालांकि, शुक्रवार तक नाम वापस लेने का वक्त उम्मीदवारों के पास है. इसके बाद ही चुनाव आयोग दिल्ली में उम्मीदवारों की अंतिम दावेदारी तय करेगा. सिसोदिया के खिलाफ 22 उम्मीदवार : वहीं, पटपड़गंज सीट से 23 में से 22 नामांकन पत्रों को स्वीकार किया गया है. यहां से उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया आम आदमी पार्टी से चुनाव लड़ रहे हैं. 

नोट : कृपया इसे भी पढ़ें :- 

न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : हमारे रहते अल्पसंख्यक समाज की किसी भी स्तर पर उपेक्षा नहीं हाेगी, हम गारंटी लेते हैं : नीतीश कुमार

आप के बाकी मंत्रियों के सामने भी खूब नामांकन : सीएम और डिप्टी सीएम के अलावा आप प्रत्याशी सत्येंद्र जैन के खिलाफ 14, इमरान हुसैन के खिलाफ 12, गोपाल राय के खिलाफ 18, कैलाश गहलोत और सीमापुरी से राजेंद्र पाल गौतम की सीट पर क्रमश: 17 और 20 नामांकन पत्र भरे गये है. 2015 के चुनाव में हुआ था सबसे कम नामांकन, 935 उम्मीदवार उतरे थे मैदान में. पांच सालों में मनीष सिसोदिया के खिलाफ 300 प्रतिशत बढ़े प्रत्याशी.

नोट : कृपया इसे भी पढ़ें :-

न्यूज़ टुडे टीम फ़िल्म अपडेट : भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में चम्पारण की भूमिका पर आधारित ’’चम्पारण सत्याग्रह’’ चम्पारण के लिए न केवल एक उपलब्धि होगी बल्कि एक धरोहर के रूप में विख्यात होगा : ब्रजकिशोर सिंह

झूठे वादों की प्रतियोगिता में फर्स्ट प्राइज जीतेंगे केजरीवाल : शाह

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि अगर झूठे वादों की प्रतियोगिता हो तो दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को प्रथम पुरस्कार मिलेगा. गृह मंत्री और भाजपा के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को उत्तम नगर में रोड शो किया और मटियाला में एक रैली को संबोधित कर सीएम पर हमला बोला.

नोट : कृपया इसे भी पढ़ें :-

न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : करीब 1100 करोड़ रुपये के सृजन घोटाले में सीबीआइ द्वारा पटना के विशेष कोर्ट में भागलपुर के तत्कालीन डीएम वीरेंद्र प्रसाद यादव समेत 11 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दायर

दिल्ली चुनाव में भी पाकिस्तान

कपिल मिश्रा बोले- आठ फरवरी को सड़कों पर भारत-पाक के बीच मुकाबला होगा. दिल्ली के विधानसभा चुनाव में भी पाकिस्तान का जिक्र आ गया है. सत्ताधारी आम आदमी पार्टी जहां बिजली, पानी, शिक्षा के मुद्दे पर प्रचार कर रही है, वहीं विपक्षी दल भाजपा के नेता कपिल मिश्रा केजरीवाल सरकार को इन मुद्दों पर घेरने के साथ पाकिस्तान को भी चर्चा में ले आये हैं. कपिल मिश्रा ने अपने ट्वीट में लिखा है कि आठ फरवरी को दिल्ली की सड़कों पर हिंदुस्तान और पाकिस्तान का मुकाबला होगा. कपिल का इशारा आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल की ओर है. भाजपा का दावा है कि दिल्ली में इस बार उनकी ही  सरकार बनेगी.

नोट : कृपया इसे भी पढ़ें :- 

न्यूज़ टुडे टीम एक्सक्लूसिव : नये ट्रैफिक नियम लागू होने के बाद पुलिस ने राज्यवासियों से करोड़ों रुपये का जुर्माना वसूले, पर खुद के करीब 12 सौ से अधिक पुलिस वाहनों के कागजात नहीं

केजरीवाल बने दिल्ली का बड़ा बेटा

सीएम बोले, घर का बड़ा बेटा होने के कारण दिल्ली की सभी जिम्मेदारी मेरी है.
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने प्रचार के दौरान खुद को दिल्ली का बड़ा बेटा बताया और कहा कि घर में एक बड़ा बेटा होता है. छोटी बहन का ब्याह कराना, घर की जिम्मेदारी निभाना उसका काम होता है. कहा कि मैंने भी बड़े बेटे की तरह दिल्ली का विकास किया है. इसे खराब मत होने देना. सीएम ने कहा कि जिन लोगों ने लोकसभा में भाजपा-कांग्रेस या अन्य पार्टी को समर्थन दिया था, वे सभी इस बार ‘आप’ का समर्थन करें. इस बार भाजपा, कांग्रेस या आम आदमी पार्टी नहीं, बल्कि अपनी दिल्ली के नाम पर वोट पड़ने चाहिए.

Updates