न्यूज़ टुडे टीम एक्सक्लूसिव : मोतिहारी स्थित स्टेट बैंक के करेंसी चेस्ट से लगभग एक अरब रुपया स्टेट बैंक के अधिकारियों की मौजूदगी में देर रात रिजर्व बैंक, पटना पहुंचा, गिनती को लेकर शनिवार को भी खुला रिजर्व बैंक

न्यूज़ टुडे टीम एक्सक्लूसिव : मोतिहारी/ पटना / बिहार :

गिनती को लेकर शनिवार को भी खुला रिजर्व बैंक. नोटों की गिनती में लगे दो दर्जन अधिकारी और 50 से अधिक कर्मचारी. इतनी बड़ी संख्या में कटे-फटे और स्वायल्ड नोट एक करेंसी चेस्ट में पाया जाना, किसी संगठित अंतरराष्ट्रीय गिरोह का हाथ होने से इन्कार नहीं किया जा सकता है. कटे-फटे नोट में अधिकतर ऐसे नोट मिल रहे हैं, जो कई टुकड़े में चिपकाये गये थे.

मोतिहारी स्थित स्टेट बैंक के करेंसी चेस्ट से लगभग एक अरब रुपया स्टेट बैंक के अधिकारियों की मौजूदगी में देर रात रिजर्व बैंक, पटना पहुंचा. सूत्रों के अनुसार इनमें लगभग 50 करोड़ से अधिक नोट कटे-फटे और स्वायल्ड, जबकि 50 करोड़  पुराने नोट हैं. केवल नयी करेंसी को करेंसी चेस्ट में छोड़ा गया है.

नोट : कृपया इसे भी पढ़ें :- 

न्यूज़ टुडे टीम एक्सक्लूसिव : आरबीआइ की टीम ने बिहार के मोतिहारी कचहरी स्थित भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की करेंसी चेस्ट शाखा में करीब 13 करोड़ की गड़बड़ी पकड़ी, नौ बैंककर्मी को निलंबित, तीन जांच के घेरे में

गिनती को लेकर शनिवार को भी खुला रिजर्व बैंक

नोटों को गिनने के लिए साप्ताहिक अवकाश के बावजूद शनिवार को रिजर्व बैंक खुला. इसके लिए एक दर्जन से अधिक वरीय अधिकारी और लगभग 50 कर्मचारियों को विशेष रूप से बुलाया गया. नोटों की गिनती कई  पालियों में हो रही है, ताकि इन नोटों की गिनती जल्द-से-जल्द पूरी हो जाये. जानकारी के अनुसार इसके लिए तीन करेंसी वेरिफिकेशन एंड प्रोसेसिंग सिस्टम (सीवीपीएस) लगाये गये हैं. कटे-फटे नोट में अधिकतर ऐसे नोट मिल रहे हैं, जो कई टुकड़े में चिपकाये गये थे, लेकिन सालों से रखे होने के कारण स्टिकर हट गये हैं. इसके कारण नोटों की वैल्यू निकालने में अधिकारियों के पसीने छूट रहे हैं. इस घोटाले में कटे-फटे और सड़े-गले नोटों की वैल्यू सही नोट के हिसाब से लगायी गयी है, जो मुद्रा कानून के हिसाब से बड़े अपराध की श्रेणी में आता है. 

नोट : कृपया इसे भी पढ़ें :- 

न्यूज़ टुडे एक्सक्लूसिव : शेल्टर होम मामले में सीबीआइ की प्रारंभिक रिपोर्ट मिलते ही मुख्य सचिव ने सामान्य प्रशासन विभाग को कार्रवाई का दिया निर्देश, 10 जिलों के 20 तत्कालीन डीएम समेत 25 आइएएस अधिकारियों को शोकॉज

अंतरराष्ट्रीय गिरोह का हो सकता है हाथ

इतनी बड़ी संख्या में कटे-फटे और स्वायल्ड नोट एक करेंसी चेस्ट में पाया जाना, किसी संगठित अंतरराष्ट्रीय गिरोह का हाथ होने से इन्कार नहीं किया जा सकता है. अधिकारियों के अनुसार जिस तरह के कटे-फटे नोट निकल रहे हैं, उसे देखते हुए कम-से-कम 10 से 12 दिनों का समय लग सकता है. इस संबंध में रिजर्व बैंक के वरीय अधिकारी कुछ भी बताने से साफ इन्कार कर रहे हैं. इनका कहना है कि मामला काफी संगीन और बड़ा है. 

नोट : कृपया इसे भी पढ़ें :- 

न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : करीब 1100 करोड़ रुपये के सृजन घोटाले में सीबीआइ द्वारा पटना के विशेष कोर्ट में भागलपुर के तत्कालीन डीएम वीरेंद्र प्रसाद यादव समेत 11 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दायर

अभी बैंक के कई अफसरों पर भी गिर सकती है गाज

मोतिहारी स्थित स्टेट बैंक की करेंसी चेस्ट में घोटाले के मामले में अभी बैंक के कई जांच अधिकारियों पर भी गाज गिरनी तय है. जानकारी के अनुसार साल में दो बार करेंसी चेस्ट की जांच बैंक स्तर पर करनी अनिवार्य है. साथ ही जांच रिपोर्ट रिजर्व बैंक को भेजने का प्रावधान है,  लेकिन अभी तक जो तथ्य सामने आये हैं, उनसे यह स्पष्ट है कि बैंक के जांच अधिकारियों ने भी इसकी अनदेखी की है. बैंक के स्तर पर होने वाली जांच महज खानापूर्ति है. 

अधिकारियों की मानें तो इस मामले में 2016 से लेकर 2019 के बीच करेंसी चेस्ट में नियुक्त हर कर्मचारी और अधिकारियों के कार्य की जांच शुरू हो गयी है. इनमें तो कई अधिकारी सेवानिवृत हो चुक हैं और कई अधिकारियों तबादला हो बिहार जोन से बाहर चले गये है. ऐसे में जांच प्रक्रिया लंबी खींच सकती है.

Updates

x

छठ पूजा की हार्दिक शुभकामनाएं