न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : पटना सहित पूरे बिहार में रावण वध के कार्यक्रम का आयोजन, मुख्‍य आयोजन गांधी मैदान में, रावण वध मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने किया, कार्यक्रम में भारतीय जनता पार्टी के नेता रहे अनुपस्थित

न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : पटना : 

विजय दशमी के साथ मंगलवार को दशहरा समाप्‍त हो गया। इसके बाद अब मां दुर्गा की प्रतिमाओं के विसर्जन की तैयारी शुरू हो गई है। मंगलवार को पटना सहित पूरे बिहार में रावण वध के कार्यक्रम का आयोजन किया गया। पटना में मुख्‍य आयोजन गांधी मैदान में शाम में किया गया। रावण वध मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने किया। इस महत्‍वपूर्ण कार्यक्रम में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेताओं की अनुपस्थिति गौर करने की बात रही।

इसके पहले सोमवार को कार्यक्रम के लिए बनाई गई रावण की प्रतिमा गिर गई थी। हालांकि, देर रात तक उसे फिर से खड़ा कर दिया गया था। पटना में पटना में जलजमाव की त्रासदी को देखते हुए इस बार सादगी से रावण वध कार्यक्रम मनाया गया। आतिशबाजी को भी कम हुई।

विजय दशमी के साथ मंगलवार को दशहरा समाप्‍त हो गया। इसके बाद अब मां दुर्गा की प्रतिमाओं के विसर्जन की तैयारी शुरू हो गई है। मंगलवार को पटना सहित पूरे बिहार में रावण वध के कार्यक्रम का आयोजन किया गया। पटना में मुख्‍य आयोजन गांधी मैदान में शाम में किया गया। रावण वध मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने किया। इस महत्‍वपूर्ण कार्यक्रम में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेताओं की अनुपस्थिति गौर करने की बात रही।

इसके पहले सोमवार को कार्यक्रम के लिए बनाई गई रावण की प्रतिमा गिर गई थी। हालांकि, देर रात तक उसे फिर से खड़ा कर दिया गया था। पटना में पटना में जलजमाव की त्रासदी को देखते हुए इस बार सादगी से रावण वध कार्यक्रम मनाया गया। आतिशबाजी को भी कम हुई।

पटना के गांधी मैदान में जला बुराई का रावण। कार्यक्रम का उद्घाटन व पुतला दहन मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने किया। लेकिन इस दौरान भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की अनुपस्थिति गौर करने की बात रही।

पटना गांधी मैदान में देर शाम हुआ रावण वध 

दशहरा के अवसर पर पूरे बिहार में रावण वध कार्यक्रम का आयोजन किया गया। पटना के गांधी मैदान में रावण का 75 फीट का पुतला बनाया गया। कुंभकर्ण व मेघनाद के पुतले भी क्रमश: 70 फीट और 65 फीट के थे। गांधी मैदान में देर शाम मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने शाम में कार्यक्रम का उद्घाटन व रावण वध किया।

कार्यक्रम में शामिल होने के लिए भगवान राम की सेना यूथ हॉस्‍टल से लगभग साढ़े चार बजे निकली। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार करीब 4.45 बजे गांधी मैदान पहुंचे। गांधी मैदान में ही अशोक वाटिका बनाई गई थी।

कार्यक्रम में रामायण के विभिन्‍न प्रसंगों (लंका दहन, मेघनाद व कुंभकर्ण वध आदि के दृश्‍य) की झांकियां दिखाई गईं। अंत में मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने तीर चलाकर रावण का पुतला जलाया। इसके साथ ही पूरा मैदान जयश्रीराम से उद्घोष से गूंज उठा।

एक साथ खोले गए गांधी मैदान के 13 गेट

गांधी मैदान में रावण वध को लेकर सुरक्षा कड़ी रही। रावण दहन के बाद मैदान के 13 गेटों को एक साथ खोल दिया गया, ताकि कार्यक्रम के बाद लोग आसानी से मैदान से बाहर निकल सकें।

रसियन कलाकारों ने दी भजन की प्रस्‍तुति

रावण वध समारोह के दौरान गांधी मैदान में इस वर्ष रूस के कलाकारों ने भजन प्रस्तुत किया। इसके अलावा बक्सर से आए कलाकारों ने पटना युवा आवास से एक भव्य झांकी गांधी निकाली।

कार्यक्रम से अनुपस्थित रहे बीजेपी नेता

कार्यक्रम में बीजेपी के नेता नहीं दिखे। इसके पहले के कार्यक्रमों में सत्‍ताधारी दलों के सभी प्रमुख नेता शिरकत करते रहे थे। बिहार की राष्‍ट्रीय लांकतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सरकार में बीजेपी जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) की सहयोगी है। ऐसे में उसका कार्यक्रम में शामिल नहीं रहना बड़ी बात है।

Updates