न्यूज़ टुडे टीम एक्सक्लूसिव : सृजन घोटाले की जांच तेज, भागलपुर के उप विकास आयुक्त सह बीपीएससी के पूर्व सचिव प्रभात कुमार सिन्हा के पटना स्थित घर पर इश्तेहार चस्पा

न्यूज़ टुडे टीम एक्सक्लूसिव : मोतिहारी :

सृजन घोटाले की जांच तेज हो गई है। सीबीआई ने शुक्रवार को बीपीएससी के पूर्व सचिव प्रभात कुमार सिन्हा के पटना स्थित घर पर इश्तेहार चस्पा किया। यह कार्रवाई सृजन से जुड़े करीब 100 करोड़ के घोटाले में की गई है। गुरुवार को ही सीबीआई ने सृजन घोटाले में फरार इंदू गुप्ता की करोड़ों की संपत्ति को कुर्क किया था।

प्रभात कुमार सिन्हा बीपीसएसी के सचिव के अलावा भागलपुर के उप विकास आयुक्त सह जिला पर्षद के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी रहे हैं। भागलपुर में उनकी तैनाती के दौरान सरकारी राशि को अवैध तरीके से सृजन के बैंक खातों में ट्रांसफर किया गया था। जांच के दौरान साक्ष्य सामने आने पर सीबीआई ने उनके खिलाफ आरोप-पत्र समर्पित किया है।

जांच से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक जिला पर्षद के लिए जारी की गई करीब 97 करोड़ की राशि सृजन के खाते में ट्रांसफर की गई थी। यह राशि कई वर्षों के दौरान ट्रांसफर की गई थी। प्रभात कुमार सिन्हा जब डीडीसी थे तब भी यह सिलसिला जारी रहा। उस वक्त के कई अन्य अधिकारियों पर अभी जांच चल रही है।

खाजपुरा के नालंदा कॉलोनी में है मकान

सीबीआई में प्रतिनियुक्त इंस्पेक्टर शशिशेखर चौधरी, मकसूद अशरफी और सीबीआई के सब-इंस्पेक्टर धर्मेन्द्र सिंह की अगुवाई में एक टीम शुक्रवार को खाजपुरा स्थित नालंदा कॉलोनी में प्रभात सिन्हा के मकान पर पहुंची। इसके बाद अदालत से जारी इश्तेहार को उनके घर की दीवार पर चस्पा कर दिया गया। 30 दिनों में हाजिर नहीं होने पर उनकी संपत्ति को कुर्क करने की कार्रवाई की जाएगी। इश्तेहार चस्पा करने से पहले सीबीआई ने उन्हें हाजिर होने का नोटिस जारी किया था पर वह सामने नहीं आए। अधिकारियों के मुताबिक प्रभात कुमार सिन्हा सेवानिवृत्त हो चुके हैं।

डुगडुगी भी बजवाई

फरार घोषित करने के लिए प्रभात कुमार सिन्हा के घर पर पहुंची सीबीआई की टीम ने वहां डुगडुगी भी बजवाई। इसके लिए बजाप्ते डुगडुगी वाले को टीम अपने साथ ले आई थी। सीबीआई जब इश्तेहार चस्पा करने की कार्रवाई कर रही थी तो बड़ी संख्या में आसपास के लोग इकट्ठा हो गए थे।

Updates