न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : एमसीआई ने किया चिकित्सा महाविद्यालयों में औचक निरीक्षण अनुपस्थित रहे चिकित्सक शिक्षकों एवं रेजिडेंट चिकित्सकों पर हुई कार्रवाई

न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : पटना :

राज्य के चिकित्सा महाविद्यालयों में चिकित्सक शिक्षण के साथ चिकित्सकीय सुविधा भी प्रदान की जाती है। इसलिए चिकित्सक शिक्षकों एवं सीनियर रेजिडेंटों की उपस्थिति महत्वपूर्ण हो जाती है। इसे सुनिश्चित करने के लिए भारतीय चिकित्सा परिषद (एमसीआई) ने राज्य के विभिन्न चिकित्सा महाविद्यालयों में नवम्बर 2018 से लेकर मई 2019 के बीच 7 औचक निरीक्षण किया।

औचक निरीक्षण में 9 चिकित्सक प्राध्यापक, 14 सह-प्राध्यापक, 3 सहायक प्राध्यापक, 75 संविदागत नियोजित चिकित्सक शिक्षक एवं सीनियर रेजीडेंट सहित 36 जूनियर रेजिडेंट अनुपस्थित मिले। स्वास्थ्य विभाग ने प्रेस रिलीज जारी कर इसके संबंध में जानकारी दी है।

एमसीआई द्वारा किए गए औचक निरीक्षण के आधार पर अनुपस्थित चिकित्सकों के विरुद्ध स्वास्थ्य विभाग द्वारा कार्यवाही की गयी है। जिसमें सभी अनुपस्थित चिकित्सकों के एक सप्ताह के मानदेय में कटौती के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही भविष्य में इसकी पुनरावृति नहीं किए जाने के सबंध में सबको आगाह भी किया गया है।

मुजफ्फरपूर जिले के श्री कृष्ण चिकित्सा महाविद्यालय के डा. रविंद्र प्रसाद सह-प्राध्यापक पीएसएम विभाग, डा. भगवान दास,प्राध्यापक औषधि विभाग, डा.रमाकांत प्रसाद सह-प्राध्यापक औषधि विभाग एवं डा. अच्चीदानंद सिंह सहायक प्राध्यापक औषधि विभाग।

बेतिया जिले के राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय के डा.अरविन्द कुमार प्राध्यापक एवं विभागाध्यक्ष हड्डी रोग विभाग, डा. विजय कुमार सह-प्राध्यापक माइक्रोबायोलॉजी विभाग, डा. अजय कुमार साह विभागाध्यक्ष चर्म एवं गुप्त रोग विभाग, डा. उमेश प्रसाद सिन्हा सहायक प्राध्यापक एनाटोमी विभाग एवं डा. परशुराम युगल, प्राध्यापक औषधि विभाग- राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय।

भागलपुर जिले के जवाहर लाल नेहरु चिकित्सा महाविद्यालय के डा. उदय नारायण सिंह प्राध्यापक नेत्र रोग विभाग, डा. उषा कुमारी प्रभारी एवं विभागाध्यक्ष स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग एवं डा. विनय कुमार, प्राध्यापक एवं विभागाध्यक्ष औषधि विभाग।

गया जिले के अनुग्रह नारायण मगध चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल के डा.असीम मिश्रा, सह-प्राध्यापक पैथोलॉजी विभाग।

नालंदा जिले के वर्धमान आयुर्विज्ञान संस्थान के डा. आसिफ शाहनवाज़ सहायक प्राध्यापक नेत्र रोग विभाग एवं डा. मालती कुमारी सह-प्राध्यापक फिजियोलॉजी विभाग।

मधेपुरा जिले के जननायक कर्पूरी ठाकुर चिकित्सा महाविद्यालय के डा.राकेश कुमार प्राध्यापक सर्जरी विभाग, डा. सुरेश कुमार प्राध्यापक एनाटोमी विभाग, डा. मो.अबु नसर, सह-प्राध्यापक, बायोकेमिस्ट्री विभाग, डा. विपिन कुमार वर्मा, सह-प्राध्यापक, शिशु रोग विभाग, डा. अलका सिन्हा सह-प्राध्यापक स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग तत्कालीन जननायक कर्पूरी ठाकुर चिकित्सा महाविद्यालय सम्प्रति प्रतिनियुक्त नालंदा चिकित्सा महाविद्यालय पटना, डा. सतीश कुमार सह-प्राध्यापक सर्जरी विभाग, डा. अनिल शांडिल्य सह-प्राध्यापक एफ.एम.टी विभाग, डा. अरविन्द कुमार वर्मा सह-प्राध्यापक औषधि विभाग, डा. दिनेश कुमार सह- प्राध्यापक फर्मोकोलोजी विभाग, डा. कृष्णा प्रसाद सह-प्राध्यापक औषधि विभाग एवं डा. सुधांशु कुमार जैन सह-प्राध्यापक सर्जरी विभाग।

इनके अलावा 75 संविदागत नियोजित चिकित्सक शिक्षक एवं सीनियर रेजीडेंट सहित 36 जूनियर रेजिडेंट भी निरीक्षण के दौरान अनुपस्थित मिले, जिनके विरुद्ध भी कार्यवाही की गयी है।

Updates