न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दक्षिण एशिया की पहली क्रॉस-बॉर्डर पेट्रोलियम उत्पादों की पाइपलाइन जो मोतिहारी-अमलेखगंज (नेपाल) के बीच है, का उद्घाटन किया, अब चंपारण सहित पूरे उत्तर बिहार में तेल की आपूर्ति में होगी सुविधा

न्यूज़ टुडे टीम अपडेट : मोतिहारी/ नई दिल्ली :

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को मोतिहारी-अमलेखगंज (नेपाल) पेट्रोलियम उत्पाद पाइपलाइन का उद्घाटन किया। यह दक्षिण एशिया की पहली क्रॉस-बॉर्डर पेट्रोलियम उत्पादों की पाइपलाइन है। पीएम मोदी ने नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस पाइपलाइन को उद्घाटन किया।

इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि 2015 के विनाशकारी भूकंप के बाद जब नेपाल ने पुनर्निर्माण का बीड़ा उठाया, तो भारत ने पड़ोसी और निकटतम मित्र के नाते अपना हाथ सहयोग के लिए आगे बढ़ाया। मुझे बहुत खुशी है कि नेपाल के गोरखा और नुवाकोट जिलों में हमारे आपसी सहयोग से फिर से घर बसे हैं। आम लोगों के सिर पर फिर से छत आई है।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि यह बहुत संतोष का विषय है कि दक्षिण एशिया की यह पहली क्रॉस-बॉर्डर पेट्रोलियम पाइपलाइन रिकॉर्ड समय में पूरी हुई है। जितनी अपेक्षा थी, उससे आधे समय में यह बन कर तैयार हुई है। इसका श्रेय आपके नेतृत्व को, नेपाल सरकार के सहयोग को और हमारे संयुक्त प्रयासों को जाता है।

पूर्वी चम्पारण के मोतिहारी और नेपाल के अमलेखगंज के बीच तेल पाइपलाइन का मंगलवार को उद्घाटन से अब चंपारण सहित पूरे उत्तर बिहार में तेल की आपूर्ति में सुविधा होगी। बरौनी वाया पटना होते हुए मोतिहारी के छपरा बहास स्थित निर्मित तेल डिपो से ही पूर्वी, पश्चिमी चंपारण व नेपाल के अमलेखगंज सहित आसपास के सभी जिलों के पेट्रोल पंपों को तेल की आपूर्ति की जाएगी।

इधर प्लांट के सुप्रीटेंडेंट रामएकबाल सिंह ने बताया कि अबतक पूर्वी चम्पारण सहित आसपास के जिलों में बरौनी से डीजल व पेट्रोल की आपूर्ति होती थी। वैसे सभी पेट्रोल पंपों को अब यहीं से पेट्रो पदार्थ की सप्लाई होगी। इससे ढुलाई खर्च में भी कमी आएगी, जिसका सीधा लाभ लोगों को मिलेगा। उन्होंने बताया कि मोतिहारी-अमलेखगंज पाइपलाइन प्रोजेक्ट पर करीब 325 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। इस प्रोजेक्ट से उत्तर बिहार को भी लाभ मिलेगा। निकट भविष्य में यही से ही गैस की सप्लाई भी शुरू होगी। छपरा बहास सहित पूर्वी चंपारण को भी इसका लाभ मिलेगा। इस प्लांट के लगने से लोगों को रोजगार प्राप्त हुआ है।

रक्सौल को सड़क जाम की समस्या से मिलेगी निजात

मोतिहारी-अमलेखगंज पाइपलाइन से तेल की आपूर्ति से नेपाल का प्रमुख द्वार कहे जाने वाले रक्सौल बॉर्डर पर सड़क जाम की समस्या लगभग समाप्त हो जाएगी। नेपाल ऑयल निगम के प्रवक्ता वीरेन्द्र गोईत ने बताया कि इस पाइपलाइन के चालू होने से सबसे अधिक सड़क जाम की समस्या से सीमावर्ती नागरिकों को राहत मिलेगी। साथ ही पेट्रोलियम की चोरी पर भी लगाम लग जाएगी। पाइपलाइन के लिए भूमि अधिग्रहण से रक्सौल व वीरगंज सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों को अप्रत्याशित रूप में आर्थिक विकास हुआ है। उन्होंने बताया कि रक्सौल आईओसी डिपो से प्रतिदिन दो सौ से ढाई सौ ट्रैंकर नेपाल के लिए जाते थे। अब डीजल, पेट्रोल व केरोसिन की लोडिंग बंद हो जाएगी।

Updates